इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना राजस्थान 2024 | Rajasthan Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana

Rajasthan Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana 2024: Online Application, Eligibility, All Details In Hindi | इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना राजस्थान 2024 सम्पूर्ण जानकारी 

भारत की पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी के नाम को ध्यान में रखते हुए राजस्थान सरकार ने एक कल्याणकारी योजना शुरू की है। सरकार ने इस योजना का नाम इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना रखा है. इस योजना के तहत सरकार ने राजस्थान राज्य की ऐसी महिलाओं को शामिल किया है जो दूसरी बार मां बनने वाली हैं यानी बच्चे को जन्म देने वाली हैं। योजना के तहत, सरकार दूसरी बार बच्चे को जन्म देने वाली महिलाओं को वित्तीय सहायता प्रदान करेगी, ताकि महिलाएं अपना और अपने बच्चों की उचित देखभाल कर सकें। आइये इस पेज पर जानते हैं “इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना क्या है” 

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना:- महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए सरकार द्वारा विभिन्न योजनाएं चलाई जाती हैं। आज हम आपको राजस्थान सरकार की एक ऐसी ही योजना से जुड़ी जानकारी देने जा रहे हैं। जिसका नाम राजस्थान इंदिरा गांधी मातृ पोषण योजना है। इस लेख को पढ़कर आपको इस योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी मिल जाएगी। जैसे कि योजना का उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि। तो दोस्तों, यदि आप राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2024 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपसे अनुरोध है कि यह लेख अंत तक पढ़ें। 



{tocify} $title={Table of Contents}

Table of Contents

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2024 हिंदी 

राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने पूर्व प्रधान मंत्री श्रीमती की 103वीं जयंती पर इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2024 शुरू की है। इस योजना के अंतर्गत राजस्थान सरकार द्वारा गर्भवती महिलाओं को ₹6000/- की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। ₹6000 की यह आर्थिक सहायता 5 चरणों में प्रदान की जाएगी। फिलहाल इस योजना के तहत केवल 4 जिलों को शामिल किया गया है। जल्द ही यह योजना पूरे प्रदेश में लागू की जायेगी. इस राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2024 के माध्यम से मां और बच्चे दोनों में कुपोषण कम होगा।

Rajasthan Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana
 Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana 


इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2024 के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू: राजस्थान में इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना शुरू हो गई है। सभी जिलों की महिलाओं के लिए लागू की गई है। राजस्थान सरकार ने गर्भवती महिलाओं, स्तनपान कराने वाली महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य और पोषण की स्थिति में सुधार के लिए इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना शुरू की है। इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2024 का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के प्रावधानों का पालन करते हुए राजस्थान से कुपोषण को खत्म करना है।




            राजस्थान मुख्यमंत्री कन्यादान योजना  

Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana Highlights 


योजना राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना
व्द्दारा शुरू राजस्थान सरकार
योजना आरंभ 19 नवंबर 2020
लाभार्थी राज्य की द्वितीय संतान के लिए गर्भवती महिलाएं 
उद्देश्य द्वितीय संतान के समय गर्भवती महिलाओं को पाँच किश्तों में 6,000/- रूपये की वित्तीय सहयता।
नोडल विभाग राजस्थान महिला और बाल विकास विभाग
आवेदन की प्रक्रिया आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के माध्यम से।
आर्थिक सहायता राशी 6 हजार रुपए पांच चरणों में
लाभार्थियों की संख्या 77000
अधिकारिक वेबसाइट यहाँ क्लिक करे
श्रेणी राजस्थान सरकारी योजना
साल 2024





            राजस्थान छात्रा प्रोत्साहन योजना 



राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना का उद्देश्य

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना का मुख्य उद्देश्य सभी गर्भवती महिलाओं को सशक्तिकरण प्रदान करना है। इस योजना के माध्यम से गर्भवती महिलाओं को ₹6000/- की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। जिससे वह अपने और अपने बच्चे के पोषण पर ध्यान दे सकेंगे। इस योजना से कुपोषण भी कम होगा। इस योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन करना होगा जिससे समय और पैसे दोनों की बचत होगी और सिस्टम में पारदर्शिता आएगी।

राजस्थान में हर साल कई महिलाएं गर्भवती होती हैं और बच्चे को जन्म देती हैं, लेकिन खराब आर्थिक स्थिति के कारण वे शुरुआत में अपने बच्चे को उचित पोषण नहीं दे पाती हैं, जिसके कारण बच्चे बचपन में ही कुपोषण का शिकार हो जाते हैं। इसलिए, सरकार ने इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना शुरू की है, ताकि योजना के तहत प्राप्त धन का उपयोग माताएं अपने बच्चों की बेहतरीन परवरिश के लिए कर सकें और उन पैसों से अपने बच्चों को पौष्टिक भोजन प्रदान कर सकें, ताकि बच्चे स्वस्थ रहें। वहीं राजस्थान राज्य में बाल कुपोषण की दर में भी कमी आई है।

            मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बिमा योजना 

योजनान्तर्गत सहयोग राशी स्थानान्तरण की प्रक्रिया का संचालन 

Rajasthan Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना का प्रथम चरण 

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व योजना का मुख्य उद्देश्य गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं और 3 वर्ष तक के बच्चों के स्वास्थ्य और पोषण की स्थिति में सुधार करके जन्म के समय कम वजन और दुबलेपन की घटनाओं को कम करना है। इंदिरा गांधी मातृत्व योजना का उद्देश्य राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के प्रावधानों के अनुपालन के साथ-साथ राजस्थान सरकार की कुपोषण निवारण रणनीति ‘सुपोषित राजस्थान विजन 2022’ के लक्ष्य को पूरा करने के लिए सामाजिक और व्यवहारिक परिवर्तन संचार रणनीति को अपनाना है।

इंदिरा गांधी मातृ पोषण योजना 19 नवंबर 2020 को मुख्यमंत्री द्वारा शुरू की गई थी। वर्ष 2020-21 की बजट घोषणा में मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने इस योजना को आदिवासी जिलों प्रतापगढ़, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, उदयपुर और बारां में शुरू किया था। फिर 1 अप्रैल 2022 से यह योजना राजस्थान के सभी जिलों के लिए लागू कर दी गई है. इंदिरा गांधी मातृ पोषण योजना के तहत राजस्थान की 3 लाख 50 हजार गर्भवती महिलाएं हर साल इसका लाभ उठा सकती हैं. इंदिरा गांधी मातृ पोषण योजना के तहत दूसरे बच्चे के जन्म पर लाभार्थी को पांच किस्तों में 6000/- रुपये का नकद लाभ दिया जाता है।

                राजस्थान शुभ शक्ति योजना 

इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के अंतर्गत आर्थिक सहायता किस्तें

किस्त शर्तें आर्थिक सहायता
प्रथम गर्भावस्था जांच एवं पंजीकरण (ANC & Registration) होने पर (अंतिम माहवारी तिथि से 120 दिनों के भीतर पंजीकरण होने पर) 1000/-
द्वितीय कम से कम 2 प्रसव पूर्व जांचें (ANC) पूरी होने पर (गर्भावस्था के 6 माह के भीतर) 1000/-
तृतीय बच्चों के जन्म पर (निर्धारित संस्थान में संस्थागत प्रसव पर) 1000/-
चतुर्थ बच्चों के 3.5 माह (105 दिवस) की उम्र तक के सभी नियमित टीके लग जाने एवं नवजात बच्चे का जन्म पंजीकरण होने पर ( टीकाकरण के अंतर्गत बच्चों को BCG, OPV, DPT और हेपेटाइटिस-बी या इसके समकक्ष विकल्प की प्रथम खुराक प्राप्त करने पर) 2000/-
पांचवीं द्वितीय संतान के उपरांत दंपत्ति द्वारा संतान उत्पत्ति के तीन माह के भीतर स्थाई परिवार नियोजन साधन अपनाने जाने अथवा महिला द्वारा कॉपर-टी लगवाई जाने पर 1000/-


             इंदिरा गांधी शहरी रोजगार गारंटी योजना 



राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के लाभ एवं विशेषताएं

  • राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2024 को पूर्व प्रधान मंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी की 103 वीं जयंती के अवसर पर राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत द्वारा शुरू किया गया है। 
  • इस योजना के तहत दूसरी बार गर्भवती होने वाली महिलाओं को 6000/- रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
  • यह वित्तीय सहायता पांच चरणों में प्रदान की जाएगी।
  • वर्तमान में इस योजना के अंतर्गत केवल 4 जिलों को शामिल किया गया है जो कि उदयपुर, डूंगरपुर, बांसवाड़ा और प्रतापगढ़ हैं।
  • राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना पूरे राज्य में लागू की जायेगी।
  • इस योजना से बच्चे और माँ दोनों में कुपोषण कम होगा।
  • इस योजना का बजट 43 करोड़ रुपये है.
  • इस योजना के तहत लगभग 77000 महिलाएं लाभार्थी होंगी।
  • इस योजना के माध्यम से लोगों को परिवार नियोजन के तरीकों को अपनाने के लिए भी प्रोत्साहित किया जाएगा। जिससे जनसंख्या पर नियंत्रण रहेगा।
  • राज्य सरकार द्वारा दी जाने वाली धनराशि सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में स्थानांतरित कर दी जाएगी।
  • इस योजना से महिलाएं सशक्त होंगी.
  • दूसरी बार गर्भधारण की स्थिति में भी इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • 1 अप्रैल 2022 से यह योजना राजस्थान के सभी जिलों के लिए लागू कर दी गई है।

इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2024 प्रक्रिया

इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना एक पेपरलेस योजना है। राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना में लाभार्थियों के आवेदन और चयन की प्रक्रिया ऑनलाइन की जाती है। इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2024 का लाभ उठाने के लिए पीसीटीएस पर पंजीकरण, जन आधार आईडी और मोबाइल नंबर होना जरूरी है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के पीसीटीएस को आईसीडीएस के राज पोषण पोर्टल से एकीकृत किया गया है। पीसीटीएस आईडी पर पंजीकृत महिला कोई भी जानकारी जैसे प्रसव पूर्व जांच, शिशु टीकाकरण, परिवार नियोजन साधन आदि का विवरण ले सकती है। योजना की शर्तों की पालना करने पर लाभार्थी की जानकारी स्वतः ही राजपोषण पोर्टल पर दर्ज हो जाती है।

इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के लिए बजट निर्धारित

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2023 के तहत काम के लिए राजस्थान सरकार द्वारा 225 करोड़ रुपये का बजट बनाया गया है। इसके माध्यम से 5 वर्षों में राज्य की 3.75 लाख महिलाओं को इस योजना का लाभ दिया जाएगा। जिसके तहत हर साल 75,000 महिलाओं को इस योजना में शामिल किया जाएगा और उन्हें 45 करोड़ रुपये का लाभ दिया जाएगा. इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के माध्यम से लाभ राशि सीधे लाभार्थी महिलाओं के बैंक खातों में स्थानांतरित की जाएगी। इस योजना के लिए आवेदन करने वाली महिलाओं में से केवल गर्भवती महिलाओं को ही लाभ मिलेगा। इसके लिए राज्य की सभी गर्भवती महिलाएं ऑनलाइन आवेदन कर सकती हैं।

            राइट टू हेल्थ बिल राजस्थान 

इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना राजस्थान पात्रता मानदंड

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के तहत आवेदन करते समय आवेदक को नीचे दी गई पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा:-

  • इस योजना का लाभ केवल वही महिलाएं उठा सकेंगी जो राजस्थान राज्य की स्थायी निवासी हैं। आवेदन करने से पहले महिला का गर्भवती होना जरूरी है।
  • इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना का लाभ लेने वाली महिला आवेदक बीपीएल श्रेणी से संबंधित होनी चाहिए।
  • इस योजना का लाभ केवल वही महिलाएं ले सकेंगी जो अपने दूसरे बच्चे को जन्म देने वाली हैं।
  • आवेदक महिला के पास अपना बैंक खाता होना आवश्यक है, क्योंकि इसी खाते में सरकार द्वारा सहायता राशि प्रदान की जाएगी।
  • आवेदन करते समय महिला आवेदकों के पास सभी आवश्यक दस्तावेज होने चाहिए।
  • राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के तहत लाभ लेने के लिए दूसरे राज्यों की महिलाएं आवेदन नहीं कर सकेंगी।

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना महत्वपूर्ण बिंदु

  • राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के तहत ऐसी सभी महिलाओं को पात्र माना जाएगा जो 01-04-2022 को या उसके बाद दूसरे बच्चे से गर्भवती हुई हैं।
  • जो महिलाएं केंद्र सरकार या राज्य सरकार या सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम में नियमित रोजगार में हैं या किसी अन्य लागू कानून के तहत समान लाभ प्राप्त कर रही हैं, वे इस योजना का लाभ उठाने के लिए पात्र नहीं हैं।
  • जहां राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के तहत पंजीकरण के बाद, किसी भी लाभार्थी को गर्भपात / मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी (एमटीपी) / स्टिलबर्थ होता है, तो लाभार्थी पीसीटीएस ऑनलाइन पोर्टल में पंजीकरण के मामले में भविष्य में गर्भधारण के लिए पात्र होगा। सभी किस्तों का लाभ प्राप्त होने पर भी वह लाभ प्राप्त करने की पात्र होगी।
  • इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना की शर्तों को पूरा करते हुए गर्भवती एवं धात्री आंगनवाड़ी कार्यकर्ता/आंगनवाड़ी सहायिका/आशा सहयोगिनी/साथिन भी इस योजना के तहत लाभ प्राप्त कर सकती हैं।

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना आवश्यक दस्तावेज

  • आवेदक महिला का आधार कार्ड
  • बैंक पासबुक
  • आवासीय प्रमाण पत्र
  • सरकारी अस्पताल से जारी स्वास्थ्य कार्ड
  • पहचान पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • बीपीएल राशन कार्ड
  • पासपोर्ट के आकार की तस्वीर

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना आवेदन प्रक्रिया

इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना का लाभ उठाने के लिए महिलाएं अपनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका की मदद ले सकती हैं। इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के लिए लाभार्थी इस प्रकार आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए समेकित बाल विकास सेवा योजना (आईसीडीएस) के तहत एक पोर्टल विकसित किया गया है। आशा सहयोगिनी से सत्यापित कराकर चरणबद्ध तरीके से निर्धारित राशि का भुगतान करने की व्यवस्था की जायेगी। लाभार्थी को राशि का भुगतान उसके जन आधार से जुड़े व्यक्तिगत बैंक खाते में किया जाएगा।

  • राजस्थान सरकार की इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना का लाभ उठाने के लिए गर्भवती लाभार्थी को सबसे पहले अपना पंजीकरण कराना होगा।
  • गर्भवती महिला का पंजीकरण एएनएम या आंगनवाड़ी कार्यकर्ता द्वारा किया जाएगा।
  • इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के लिए पंजीकरण के समय लाभार्थी महिला के पास जन आधार कार्ड, आधार कार्ड और बैंक पासबुक होना अनिवार्य है।
  • पंजीकरण प्रक्रिया सरल एवं कागज रहित है।
  • लाभार्थी महिला का विवरण एएनएम या आंगनवाड़ी कार्यकर्ता द्वारा एकत्र कर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के जिला कार्यालय को भेजना होगा।
  • चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा लाभार्थी महिला का विवरण पीसीटीएस पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा।
  • पंजीकरण के बाद प्रत्येक किस्त का पैसा समय अवधि के अनुसार लाभार्थी महिला के खाते में आता रहेगा।
  • इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना की प्रत्येक किस्त के लिए किसी भी प्रकार का आवेदन पत्र जमा करने की आवश्यकता नहीं है।
  • लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थी गर्भवती महिला को पीसीटीएस पर पंजीकरण के समय अपना जन आधार एवं मोबाइल नंबर प्रस्तुत करना आवश्यक होगा।
  • राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना में पंजीकरण के प्रत्येक चरण के 30 दिनों के भीतर लाभार्थी को किस्त मिल जाएगी।
  • लाभार्थी गर्भवती महिला अपने इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना आवेदन की स्थिति अपने क्षेत्र की एएनएम या आंगनवाड़ी कार्यकर्ता से प्राप्त कर सकती है।

Contact Details

अधिकारिक वेबसाइट यहाँ क्लिक करें
राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना दिशानिर्देश यहाँ क्लिक करें
हेल्पलाइन नंबर 0141-2713626 (Nutrition)

0141-2713633 (Others)
हेल्पडेस्क मेल director.wcd@rajasthan.gov.in
पता राजस्थान महिला और बाल विकास विभाग ,
एकीकृत बाल विकास सेवा निदेशालय
(आईसीडीएस) 2, जलपथ, गांधी
नगर, जयपुर 302015
केंद्र सरकारी योजना यहाँ क्लिक करें
ज्वाइन टेलीग्राम

निष्कर्ष / Conclusion 

इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना राजस्थान में गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं और तीन साल तक के बच्चों की पोषण स्थिति में सुधार के लिए सशर्त मातृत्व लाभ और पोषण परामर्श पर आधारित एक योजना है।

प्रथम चरण – प्रथम चरण के अंतर्गत राजस्थान सरकार द्वारा बजट घोषणा 2020-21 की अनुपालना में दिनांक 19.11.2020 से इंदिरा गांधी मातृ पोषण योजना राज्य के पांच आदिवासी जिलों – प्रतापगढ़, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, उदयपुर में लागू की गई है। और बारां.

दूसरा चरण – दूसरे चरण के तहत राजस्थान सरकार ने वर्ष 2022-23 में योजना का दायरा बढ़ाकर राज्य के सभी 33 जिलों में लागू करने की घोषणा की. योजना के तहत दूसरे बच्चे की गर्भधारण करने वाली महिलाओं को निर्धारित शर्तें पूरी करने पर 6,000 रुपये की नकद सहायता राशि पांच किस्तों में सीधे उनके खाते में जमा की जाती है 

Rajasthan Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana FAQ 

Q. राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना क्या है?

इस योजना के तहत गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं को पांच किस्तों में 6000 रुपये दिए जाएंगे। जो इच्छुक महिला उम्मीदवार राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के लिए आवेदन करना चाहती हैं, वे अपने क्षेत्र की एएनएम या आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के सहयोग से आवेदन कर सकती हैं।

Q. राजस्थान में इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना कब प्रारम्भ की गई?

राजस्थान में इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 19 नवंबर 2020 को शुरू हुई।

Q. इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना में कितना पैसा मिलता है?

इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के तहत 6000 रुपये की राशि दी जाएगी वह भी 5 चरणों में।

Leave a Comment